मिलेट कार्निवाल के समापन समारोह में शामिल हुए कृषि मंत्री रविंद्र चौबे, मंत्रालय में भी खोला जाएगा मिलेट्स कैफे

छत्तीसगढ़ राज्य

*मिलेट कार्निवाल के समापन समारोह में शामिल हुए कृषि मंत्री श्री रविंद्र चौबे*

*नए स्टार्टअप को बढ़ावा देने वन एवं कृषि विभाग, आईआईएम और कृषि विश्वविद्यालय को समन्वय बनाने कहा*

*मंत्रालय में भी खोला जाएगा मिलेट्स कैफे*

*प्रदेश में जितना मिलेट का विस्तार होगा, अतने ही तेजी से सशक्त होंगे किसान*

रायपुर 19 फरवरी 2023/ मिलेट्स की महत्ता को समझने के लिए तीन दिवसीय कार्निवाल का लोगों ने भरपूर लाभ उठाया है। देशभर से आए विशेषज्ञ, किसान, कंपनियों ने अलग-अलग मिलेट्स की उपयोगिता और उससे होने वाले फायदे बताए। कार्निवाल में लगे स्टॉलों के माध्यम मिलेट्स से बने माल्ट, बिस्किट, चिक्की, चॉकलेट, लड्डू, तेल समेत बड़ा, भजिया, इडली, डोसा जैसे व्यंजनों से होने वाले लाभ के बारे में बताया गया। देश के नामी शेफों ने मिलेट्स से बनने वाले व्यंजनों की विधि और मौसम के अनुसार उनके लाभ बताए। नुक्कड़ के जरिए कार्निवाल में आने वाले लोगों को मिलेट्स में मौजूद पोषक तत्वों के बारे में जानकारी देकर उनके लाभ गिनाए गए। साथ ही राज्य सरकार द्वारा मिलेट्स की खेती को दिए जाने वाले प्रोत्साहन के बारे बताया गया। लोगों ने कार्निवाल के आयोजन को और बढ़ाने की मांग की। यह इस बात का संकेत है कि लोगों ने अधिकाधिक संख्या में कार्निवाल का लाभ लिया और जागरूकता के साथ मिलेट्स की महत्ता को समझा।
यह बातें राजधानी के नेताजी सुभाष स्टेडियम में चल रहे तीन दिवसीय मिलेट कार्निवाल के समापन समारोह में कृषि मंत्री श्री रविंद्र चौबे ने कही। उन्होंने कहा कि यह कहावत की बात हो गई थी कि मिलेट्स गांव का भोजन होता है। बल्कि अब हाई सोसायटी भी इसके महत्व को समझ रही है और उसे स्वीकार कर रही है। हमारा लक्ष्य है कि अब इसे मध्यम वर्ग के भोजन में मिलेट्स शामिल हो। डॉक्टर भी लोगों को मिलेट्स लेने की सलाह दे रहे है।
मंत्री श्री चौबे ने कहा कि कवर्धा जिले में एक साल के अंदर मिलेट्स का 8000 हेक्टेयर का रकबा बढ़ा है। इस बढ़त से समझा जा सकता है कि आने वाले समय में हम कृषि के क्षेत्र में कितनी रफ्तार से आगे बढ़ेंगे।
उन्होंने कहा कि इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के मिलेट कैफे में कुकीज और बिस्किट जैसे उत्पाद उपलब्ध हो रहे है। मंत्रालय में भी मिलेट्स कैफे खोला जाएगा। मंत्री श्री चौबे ने किसानों और स्टार्टअप लेने वालों युवाओं को विभागीय योजनाओं का लाभ देने विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया है। उन्होंने कहा कि हम सभी को एकसाथ मिलकर मेहनत करना है और आगे बढ़ना है। ऐसे में हम जल्दी आगे बढ़ेंगे और जितना विस्तार मिलेट्स का होगा उतने ही हमारे प्रदेश के किसान सशक्त होंगे।
कृषि मंत्री ने मिलेट्स कार्निवाल में भाग लेने वाले स्टार्टअप स्टॉल, किसान, विशेषज्ञ, संस्थानों और विभिन्न राज्यों से आए प्रतिनिधियों को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया। सम्मानित होने वालों में कवर्धा जिले के वीडीवीके जुनवानी, गंडई, गीदम और गजधरपुर की प्रायमरी सोसायटी, वीडीवीके केतका- सूरजपुर, अवनी आयुर्वेदा, हारिका फूड्स, इम्युनो मिलेट्स, साई सदन मिलेट लीफ, नया मिलेट्स, एन-रिच, रायगढ़ मिलेट कैफे, न्यूट्रीहब – आईसीएआर-आईआईएमआर, इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय और आईएचएम रायपुर शामिल है।
समापन समारोह के अवसर पर संसदीय सचिव श्री चंद्रदेव राय, योग आयोग के अध्यक्ष श्री ज्ञानेश शर्मा, लघु वनोपज बोर्ड के अध्यक्ष श्री संजय शुक्ला, छतीसगढ़ हर्बल्स के एमडी श्री अनिल राय, इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति श्री गिरीश चंदेल, आईआईएम के डायरेक्टर श्री राम कुमार कंकानी सहित अन्य अतिथि शामिल हुए।